वृष राशिफल 2018

 

आजीविका:
साझेदारी कार्यों के लिए वर्ष 2018 का आरम्भ प्रतिकूल रहेगा। व्यापारिक विषयों में मेहनत करना आपको सफलता की दिशा में लेकर जाएगा। किसी नए व्यवसाय को शुरु करना इस वर्ष में सहज नहीं होगा। योजनाओं को लागू करने में भी आपको दिक्कतों का सामना करना पड़़ सकता है। वर्ष उत्तरार्द्ध में गुरु आपके आय और भाग्य को प्रभावित कर रहे हैं, इससे वर्ष पूर्वार्द्ध आपके लिए आय और लाभ के पक्ष से उत्तम रहेगा। शनि अष्टम भाव पर गोचर कर आपके कार्यभार में बढ़़ोत्तरी कर रहे हैं।

स्वास्थ्य:
वर्ष 2018 की ग्रह स्थिति आपके स्वास्थ्य के लिए विपरीत बनी हुई है। वर्षावधि में कई बार गंभीर रोगों की स्थिति बन सकती है। इस वर्ष आपको अपनी सेहत के प्रति सचेत रहना होगा। स्वास्थ्य और इससे जुड़े पहलू चिंतित करने वाले होंगे। ऐसे में स्वास्थ्य का खास ध्यान रखना होगा। स्वास्थ्य में किसी भी प्रकार की अनियमितता को लेकर आप सावधानी बरतें। घुटनों, जांघों से जुड़े रोगों की समय-समय पर जांच कराते रहें।

आर्थिक स्थिति:
वित्तीय स्थिति को मजबूत करने के लिए योजनाबद्ध तरीके से कार्य करने होंगे। तार्किक शक्ति आपमें अधिक होने के कारण आपको इस वर्ष अपनी प्रतिभा दिखाने के अवसर प्राप्त होंगे। धन आगमन वर्ष पूर्वार्द्ध में उत्तम और तत्पश्चात कमजोर रहेगा। साल के मध्य में पैसों की तंगी हो सकती है और कर्ज भी लेना पड़़ सकता है। लेकिन वर्ष के अंत तक आप इस कर्जे को चुका भी पाएंगे। इस अवधि में आप प्रतियोगियों को परास्त करेंगे। आत्मविश्वास की अधिकता से आमदनी में इजाफा होगा।

यात्रा/अप्रवास/स्थानांतरण:
वर्षावधि में यात्राओं पर जाने के अवसर कम ही प्राप्त हो पायेंगे। कर्क राशि पर राहु का गोचर यात्राओं में सुख की कमी के योग बना रहा है। जून माह में पारिवारिक यात्राएं होंगी। नौकरी में स्थिति असहज होने से नौकरी में परिवर्तन के प्रयास होंगे। कार्यक्षेत्र के कार्यों से घर-परिवार से दूर रहने की स्थिति बन सकती है। व्यर्थ की भाग-दौड़ व्यावसायिक कार्यों के लिए करनी पड़़ सकती है। कुछ अनचाहे स्थानांतरण भी नौकरी पेशा व्यक्तियों के हो सकते हैं। जून-जुलाई माह में व्यापारिक विस्तार से संबंधित यात्राएं करने के संयोग बनेंगे। धनु राशि अष्टम भाव में शनि का गोचर आजीविका क्षेत्रों में अनचाहे स्थानांतरण करा सकता है। फरवरी माह 2017 से शनि की तीसरी दृष्टि कर्मभाव पर होगी अतः आप पर अत्यधिक कार्यभार बढ़़़ने वाला है। यह भी स्थानांतरण का एक प्रमुख कारण हो सकता है।

परीक्षा और प्रतियोगिता:
शैक्षिक क्षेत्र से जुड़े वर्ग को फरवरी माह में विपरीत फल प्राप्त हो सकते हैं। बौद्धिक कार्यों में रुचि की कमी की स्थिति बनी हुई है। फरवरी माह में सूर्य-शनि की युति आपके आत्मविश्वास में कमी का कारण बनेगी परन्तु यह स्थिति अल्पकाल के लिए ही बनी हुई है। विदेश में शिक्षा प्राप्ति के लिए प्रयासरत छात्र अप्रैल-मई माह की अवधि का विशेष रुप से उपयोग कर सकते हैं।

घर, परिवार और समाज:
आपको परिवार में सदस्यों के निकट आने के अवसर प्राप्त होगें। वर्ष आरम्भ में कोई अप्रिय सूचना आपको मानसिक अस्थिरता दे सकती है। पारिवारिक व्यय बढ़ेंगे। आप अपनी बुद्धिमत्ता से अपने परिवार की सुख-शान्ति को बनाये रखने में सफल रहेंगे तथा मार्च-अप्रैल माह में संतान की सफलता से आपके उत्साह में वृ्द्धि होगी। संतान की प्रतीक्षा कर रहे दंपतियों की संतान की मनोकामना पूरी होगी।

धार्मिक कर्म:
धर्म-कर्म की गतिविधियों में आपकी रुचि कम हो सकती है। शनि के सभी शुभ फल पाने के लिए आवश्यक है कि आप शनि यंत्र की स्थापना कर, सात मुखी रुद्राक्ष माला पर नित्य शनि मंत्रों का जाप करें। राहु और केतु के शुभ फलों के लिए कोढ़ियों की सेवा करें या अस्पताल में दवाईयां दान करें।